सांस्कृतिक परिचय का कोरोना-काल

होइहि सोइ जो राम रचि राखा।

कोई भी काल हो, कोई भी युग हो, मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का जीवन अनादी काल तक जनमानस के लिए एक आदर्श के रूप में स्थापित रहेगा। युगों पूर्व महर्षि वाल्मीकि ने भगवान श्रीराम के जीवन की यात्रा का जो अमूल्य रत्न ‘रामायण’ विश्व को दिया, उसे रामानंद सागर जी ने पर्दे पर उतार कर जीवंत रूप दे दिया। रामानंद सागर जी ने जब पर्दे पर रामायण को उतारा था, तब उन्होंने भी नहीं सोचा होगा कि वह आमजन को एक बहुमूल्य रत्न देने जा रहे हैं। इतने वर्षों पश्चात् भी दूरदर्शन पर रामायण के पुनः प्रसारण की लोकप्रियता यह साबित करती है कि भारतीयों के मन से प्रभु श्रीराम को कोई हटा नहीं सकता। राम भारत के कण-कण में समाए हैं। गेम्स ऑफ थ्रोन्स देखने वाली आज की युवा पीढ़ी जब 'मंगल भवन अमंगल हारी' को सुन और गुनगुना रही है, तो समझा जा सकता है कि राम जैसा कोई नहीं है।
यह आश्चर्य ही है कि हम श्रीराम के जीवन को बचपन से सुनते आ रहे हैं। हम पूरी कहानी जानते हैं, लेकिन फिर भी जब पर्दे पर आज फिर से रामायण का प्रसारण होना शुरू हुआ तो हम उसी उत्साह और प्रेम से सब काम छोड़कर रामायण देखने में लग गए। हम भूल गए कि इस समय हम पर एक विषाणु का खतरा मंडरा रहा है. पर वो कहते हैं न राम से राम नाम बड़ा है, शायद उसी वजह से हम अपने पर आए दुःख-दर्द को भूल जाते हैं। उस दौर में और आज के दौर में कुछ खास परिवर्तन नहीं हुआ है। तब भी रामायण को देखने के लिए लोग सब काम छोड़ देते थे और आज भी लोग वैसा ही कर रहे हैं। उस समय भी कुछ लोगों को रामायण के प्रसारण से दिक्कत थी और इस जमाने में भी कुछ लोगों के पेट में यही दर्द उठ रहा है। लेकिन रामायण तब भी लोगों के हृदय में बसती थी और आज भी लोगों के हृदय में स्थान बना चुकी है। रामायण जिस दिन पुनः प्रसारित किया जाने लगा उस दिन कुछ क्रांतिकारी पत्रकारों ने हमेशा की तरह प्रश्न और विरोध के बाणों को धनुष पर चढ़ा लिया और पूछा कि इस दशकों पुराने धारावाहिक को कौन देखेगा? लेकिन रामायण ने बीते सालों के कई रिकॉर्ड ध्वस्त किए और कई नए कीर्तिमान भी स्थापित किए। रामायण आज दुनिया का सबसे अधिक देखा जाने वाला कार्यक्रम बन चुका है और आज की नई पीढ़ी के जीवन में उतर चुका है।
त्रेता युग में जन्मे भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान श्रीराम आदर्श व्यक्तित्व के प्रतीक हैं, भारत की अमूल्य सांस्कृतिक विरासत हैं। महात्मा गांधी के अनुसार राम एक सर्वव्यापी ईश्वरीय शक्ति का स्वरूप हैं। राम केवल हिन्दुओं के नहीं, अपितु सब धर्मों, पंथों के हैं। इसके बावजूद राम के देश में राम कब और कैसे काल्पनिक बनाए गए इसका अंदाजा शायद कोई हिन्दू नहीं लगा सकता। वर्षों का झूठ, प्रपंच और राम के जीवन पर ही प्रश्न चिन्ह लगाकर यह सारा षड्यंत्र भारत-विरोधी ताकतों द्वारा रचा गया है। इनका एकमात्र उद्देश्य भारत के लोगों को भारत के इतिहास से दूर करना है। ऐसा ही एक प्रपंच 2007 में कांग्रेस सरकार ने समुद्रम परियोजना पर काम करते हुए किया था। तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने उच्चतम न्यायालय में हलफनामा दायर करके कहा था कि राम, रामायण, सीता, हनुमान, वाल्मीकि आदि काल्पनिक किरदार हैं। अतः रामसेतु का कोई धार्मिक महत्व नहीं है। उसे तोड़ देना चाहिए। काफी विरोध झेलने के बाद सरकार को अपना फैसला बदलना पड़ा था, लेकिन लोग इस बात को याद रखे हुए थे। शायद इसीलिए जब रामायण दोबारा शुरू हुआ, तब सोशल मीडिया ने लिबरल्ज पर चुटकी लेते हुए लिखा की जिन-जिन को रामसेतु काल्पनिक लगता है, वे ध्यान से नल-नील को रामसेतु बनाते हुए देख लें।
आने वाली पीढ़ी को जानकर आश्चर्य होगा कि राम की ही भूमि भारत में राम जन्मभूमि तक विवादित विषय था। आप अन्य किसी पंथ, मजहब, धर्म के ईश्वर के जन्म या अस्तित्व को लेकर प्रश्न नहीं उठा सकते, लेकिन भारत में भारत के ही पूज्य श्रीराम की जन्मभूमि तक को भी विवादित बनाया गया। यह मात्र संयोग नहीं हो सकता। उच्चतम न्यायालय में कई सालों तक यह मुकदमा चला और न्यायालय में प्रभु श्रीराम के होने के प्रणाम भी प्रस्तुत किए गए। प्रभु श्रीराम के पूर्वज और वंशजों तक का इतिहास उच्चतम न्यायलय में पेश किया गया। आई सर्व के शोधकर्ताओं ने जब धार्मिक तिथियों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले चन्द्र कैलेंडर की तिथि को आधुनिक कैलेंडर की तारीख में बदला, तो वो यह जानकर हैरान हो गए कि सदियों से भारतवर्ष में रामलला का जन्मदिन बिलकुल सही तिथि पर मनाया जाता है। शोध संस्था के मुताबिक वाल्मीकि रामायण में जिक्र श्रीराम के जन्म के वक्त ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति सॉफ्टवेयर में मिलान करने पर जो दिन निकला वह था, चैत्र शुक्ल की नवमी जिसे हम राम नवमी के रूप में मनाते है। उच्चतम न्यायलय ने अपने फैसले में माना कि श्रीराम का जन्म अयोध्या में ही हुआ था। विवादित ढांचे की खुदाई के नीचे मंदिर के अवशेष मिलने के पश्चात् भी संदेह रहना और खम्भा तोड़ कर भगवान नरसिम्हा द्वारा प्रत्यक्ष दर्शन देने के बाद भी हिरण्यकश्यप का विश्वास न करना, यह दोनों कहानियां एक जैसी प्रतीत होती हैं। सच में इतिहास खुद को बार-बार दोहराता है।
कई वर्षों से हमारे सामने समाज को तोड़ने के लिए श्रीराम का एक ऐसा चित्र प्रस्तुत करने की कोशिश की गई जिसमें यह बताया गया कि राम और रामायण शुद्र विरोधी हैं। स्वयं को स्वयं ही ज्ञानी कहने वाले लिबरल्ज ने ना तो रामायण को अच्छे से पढ़ा और ना ही ध्यान से देखा या शायद राजनीति और समाज को तोड़ने में इतने खो गए कि जानबूझ कर हिन्दुओं में भेद पैदा करने के लिए तरह-तरह की बातों को गढ़ा गया। राम तो सबके हैं जाति, वर्ग, भेद से परे हैं। रामानंद सागर रामायण में बहुत अच्छे ढंग से श्रीराम के बाल्याकाल के मित्र निषाद राज से उनकी मित्रता का प्रसंग बताया गया है। वे दोनों साथ खाते हैं, खेलते हैं, एक ही गुरुकुल में पढ़ते हैं और राम के राज्याभिषेक के बाद उसी राजसभा में निषाद राज रहते हैं। ऐसे में आज तक श्रीराम के ऊपर शूद्रों से घृणा करने वाली भ्रामक बातें क्यों फैलाई गई होंगी। इससे उनका उद्देश्य साफ दिखता है, जामवंत, सुग्रीव, राक्षस राज विभिष्ण, जटायु, सम्पाती, शबरी राम के जीवन में प्रत्येक का आगमन हुआ, मित्रता हुई लेकिन श्रीराम ने एक बार भी मित्रता करने से पहले इनकी जाति नहीं पूछी। रावण ब्राह्मण कुल में जन्म लेने के बाद भी राक्षस कहलाया तो क्या उसका वध करने पर रामायण ब्राह्मण विरोधी हो गयी? फिर इतनी सारी भ्रामक बातें फैलाने का क्या उद्देश्य हो सकता है? लिबरल जमात के लिए वैसे तो रामायण एक काल्पनिक ग्रंथ है, लेकिन जैसे ही समाज तोड़ने की बात आती है, तो इनके लिए रामायण सच हो जाती है। रामायण की सुन्दरता छोड़कर अपने द्वारा रची गयी मनगढंत बातों पर विधवा-विलाप करने वालों पर रामानंद सागर द्वारा फिल्माई गई रामायण एक करारा जवाब है।

“कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊं तो में कहां जाऊं, अब हर घर में रावण बैठा इतने राम कहां से लाऊं”

इस गीत की यह पंक्तियां आज के परिदृश्य में सही प्रतीत होती हैं। रावण को आदर्श के रूप में प्रस्तुत करना और इसके विपरीत श्रीराम की छवि धूमिल करने का प्रयास भी एक तबके द्वारा किया गया है। रावण शूर्पणखा के सम्मान के लिए नहीं, अपितु सीता मां की सुन्दरता का वृतांत सुनकर उन्हें हर लाया था। रावण को नलकुबेर का श्राप था कि वह किसी पराई स्त्री को उसकी इच्छा के विरुद्ध छू नहीं सकता। इसीलिए उसने सीता मां को केवल कैद में रखा था. यह रावण की मजबूरी थी, न कि महानता या मर्यादा। इसके विपरीत प्रभु श्रीराम आदर्श व्यक्तित्व के प्रतीक हैं। राम एक आदर्श पुत्र और भाई ही नहीं, अपितु आदर्श पति भी हैं। लेकिन तथाकथित फेमिनिस्टों को राम केवल पुरुष प्रधानता के प्रतीक लगते है। वो भूल जाते हैं कि राम जानकी अलग नहीं, अपितु एक ही हैं। वनवास राम को था, लेकिन उनके साथ जाने का फैसला सीता का था, लक्ष्मण रेखा को पार करना भी सीता की अपनी इच्छा थी। उन्होंने एक भूखे साधू को अपने द्वार पर देख अपनी सुरक्षा की परवाह नहीं की और भोजन करवाने के लिए बाहर चली आईं। हनुमान जब लंका आते हैं तो सीता मां को साथ चलने के लिए कहते हैं लेकिन इस पर सीता कहती हैं कि उनकी जानकारी श्रीराम को दें। वो आएंगे और दुष्ट का संहार करके मुझे यहां से लेकर जाएंगे। पुरुष प्रधान समाज में एक नारी अपने सभी फैसले अपनी इच्छा से लेती है। यह उस विषैली सोच को जवाब है, जिसे लगता है कि अगर विश्व में नारी पर अत्याचार हुआ है, तो भारत का इतिहास कैसे सही हो सकता है। परन्तु वे भूल जाते हैं कि भारत भूमि में नारी को सबसे ऊपर के स्थान में रखा जाता है। नारी को कितनी स्वतंत्रता थी, यह कैकेई द्वारा मांगे गए दो वरदान सब साबित कर देते हैं। ये कुछ बातें आज के आधुनिक युग से प्रश्न करती हैं कि क्या आज के समाज में इतनी समझ है? सीता द्वारा अग्निपरीक्षा का रहस्य भी वाल्मीकि रामायण में वर्णित है और रामानंद सागर जी ने भी इस प्रश्न का उत्तर दिया है कि किस प्रकार सीता के छाया रूप के साथ प्रभु ने लीला रची और रावण वध के पश्चात अग्नि से अपनी सीता को वापिस प्राप्त किया।
प्रजा के कुछ लोगों द्वारा सीता मां पर सवाल उठाने का सारा वृतांत जब श्रीराम के पास पहुंचता है, उसके बाद भी वह सारी बात अपने तक रखते हैं लेकिन जब सारी बात सीता को स्वयं पता चलती है तो सीता अपनी इच्छा से आयोध्या का त्याग करती है। तब भी श्रीराम मां सीता के साथ चलने को कहते हैं, लेकिन सीता श्रीराम को प्रजा के लिए उनके दायित्व की याद दिलवाती हैं।
आज के दौर में क्या इस प्रकार का निःस्वार्थ प्रेम संभव है? खुद राजा दशरथ की तीन रानियां होने के बाद भी श्रीराम ने न केवल एक ही नारी से विवाह किया, अपितु पूरा जीवन उन्हीं से प्रेम करते हुए किसी पराई स्त्री की ओर नहीं देखा। ऐसा निर्मल चरित्र आज की भोग-विलास भरी दुनिया के लिए आदर्श भी है, लेकिन समाज किस दिशा में जा रहा है यह भी सोचने के लिए विवश करता है। शायद इसी वजह से आज के लिबरल्ज को सबसे ज्यादा नफरत किसी भगवान से है, तो वह हैं प्रभु श्रीराम। श्रीराम का पूरा जीवन संघर्षों से भरा पड़ा है। शायद इसीलिए राम मनोहर लोहिया भारत मां से शिव का मष्तिष्क, कृष्ण का हृदय और राम का कर्म व वचन मांगते हैं। राम एक आम मनुष्य की भांति है कोई चमत्कार नहीं। एक आम इन्सान की तरह संघर्ष करते हुए पूरा जीवन, जिसमें अनेको मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इसीलिए भारतीय समाज के लिए सबसे बड़े आदर्श का प्रतीक श्रीराम हैं। यही बात कुछ लोगों को पच नहीं पाती। राम का जीवन कष्टों का मार्ग है। इस पथ पर मर्यादा है। आप चाहकर भी सीमा नहीं लांघ सकते। यही चरित्र राम को मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम बना देता है। राजा का कर्तव्य, शिष्य का कर्तव्य, माता-पिता के प्रति कर्तव्य, पत्नी के प्रति कर्तव्य एक आदर्श जीवन जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते। एक सभ्य समाज राम राज्य की गांधीजी द्वारा की गई कल्पना को अगर हम साकार करते हैं तो बहुत से लोगों के राजनीतिक राज्य खत्म हो जाएंगे।
सब सामने था, परन्तु फिर भी एक षड्यंत्र के तहत श्रीराम की छवि को भारत के आमजन के सामने धूमिल करने का प्रयास किया गया। रामानंद सागर जी ने जिस प्रकार रामायण को पर्दे पर उतारा, शायद आने बाली कई पीढ़ियां इससे ना केवल अपने आराध्य को जान पाएंगी, अपितु फिल्म जगत से जुड़े हुए लोग भी भावनाओं को कैसे पर्दे पर दिखाया जाता है, ये भी सीख पाएंगे। जिन लोगों के मन में रामायण को लेकर प्रश्न थे शायद रामायण के पुनः प्रसारण के बाद उन प्रश्नों के उत्तर उन्हें मिल गये होंगे। मुझे तो मिल गए और आपको?

 

Comments

Write A Comment